HIV me lakshan

HIV ke lakshan

  एड्स के लक्षण

      HIV ke lakshan in hindi –   नमस्कार दोस्तों मैं आपका हेल्थ एडवाइजर डॉ योगेश महाडिक । आज का  ब्लॉग एचआईवी एड्स के ऊपर है, एचआईवी ऐड्स एक महा भयंकर रोग है ।इसका डर समाज में बहुत ज्यादा है, हर किसी के मन में जिंदगी में एक बार तो यह सवाल आता है कि मुझे एड्स तो नहीं ? मुझे यह लक्षण  दिख रहे हैं वह एड्स  लक्षण दिख रहे हैं; मुझे यह हो रहा है वह हो रहा है तो मुझे एड्स तो नहीं ? 


तो इस blog में मैं आपको आपके सारे डाउट क्लियर कर दूंगा क्योंकि इस वीडियो में में एचआईवी एड्स के  लक्षण के बारे में पूरे विस्तार से बताऊंगा और HIV ke lakshan ki पूरी जानकारी दूंगा, एक भी एड्स के लक्षण नहीं छूटेगा।
Read this post in English 

Aids ke lakshan 

      1. Thrush आना पहला लक्षण है जीभ और मुंह में थ्रश आना, thrush क्या  होता है? थ्रश एक सफेद सी मोटी सी परत है जो जीभ और मुंह में जमा होती है। नॉर्मल इंसान में जीभ लाल होती है और पूरी तरह से स्वच्छ होती है; उस पर कोई भी परत नहीं होती। लेकिन एचआईवी ऐड्स में जीभ और मुंह में  सफेद और पीली परत जमा होती है और वह भी कड़वा हो जाता है।

     2. unexpected weight loss- दूसरा लक्षण यह है कि अचानक से खूब सारा वजन कम हो जाता है। अचानक से 1 से 2 महीने के बीच, 5 से 10 किलो वजन कम हो जाता है और बिना किसी कारण के । यानी कोई भी ठोस कारण नहीं होता, आप वजन कम भी नहीं कर रहे होते ; आप बहुत बीमार भी नहीं होते और आपको कोई टेंशन,  डिप्रेशन भी नहीं होता; पर वजन अचानक से इतना कम हो जाता है।

        3. swollen lymph nodes-सोलन लिंफ नोड्स , लिंफ नोड नाम की ग्रंथि होती है , खासकर कांख में ,जांग में और मान के आजू-बाजू में, गले के हिस्से में पाई जाती है । एचआईवी के पेशेंट्स में यह बार-बार शूज जाती है दुखती है; औषधि लेने के बाद यह थोड़ी कम हो जाती है । सूजन दुखना भी कम हो जाता है , लेकिन औषधि खत्म होने के बाद फिर से वापस आ जाती है।


    4.TB and PNEUMONIA- टीबी और निमोनिया,  एचआईवी का वायरस  emmunity को एकदम से कम कर देता है। वह हमारे डिफेंस मेकैनिज्म पर ही अटैक कर देता है; हमारे जो cd4 सेल्स होते हैं उसको खत्म करने से cd4 काउंट कम हो जाता है । इसी वजह से पेशेंट में टीबी  और निमोनिया होने का खतरा बढ़ता है।  


अगर टीबी  और निमोनिया हो जाए तो ये लक्षण  दिखेंगे,  वह है बार बार खांसी आना,  खाँसी  1 महीने से ज्यादा दिनो तक रहती है । खांसी रात को ज्यादा आती है ; लेटने के बाद याद आती है; और बुखार लगातार रहता है।  छाती में आगे दुखता है और पीछे पीठ में भी दुखता है। कुछ-कुछ पेशेंट में तो सांस लेने में भी तकलीफ होती है और अस्थमा जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।  खाने के बाद मुंह से और नाक से खून निकल आता है।

एड्स के लक्षण 

      5.  बिना किसी वजह से लगातार बहुत दिनों तक बुखार रहता है । यह बुखार बारीक सा होता है बहुत ज्यादा नहीं होता और बुखार के साथ-साथ पसीना भी बहुत ज्यादा आता है।night sweat नाइट स्वेट्स इसका मतलब दिन में तो पसीना रहता ही है लेकिन रात को बुखार के साथ-साथ ज्यादा पसीना आता है।

       6.  बहुत ही ज्यादा थकावट सी महसूस होती है, कोई भी काम करने में मन नहीं लगता और इंसान हमेशा ही सोता रहता है।

      7.loose motions- लूज मोशन लगातार कई हफ्तों और कई महीनों तक रहता है । लूज मोशन यानी शौच को पतला होना; टॉयलेट को पानी के माफिक होना। वह किसी भी औषधि या फिर दवाई से पूरी तरह से ठीक नहीं होता। 


कुछ-कुछ कैसेस में तो यह cycle के रूप में भी आता है। इसका मतलब 7-8 दिनों तक टॉयलेट यानी शौच को नॉर्मल होगी और फिर 7-8 दिनों तक टॉयलेट को पतली होगी। लक्षण ज्यादा होने के बाद तो लगातार लूज मोशन कई महीनों तक रहती है।

          8. शरीर में हिट बहुत ज्यादा बढ़ती है। हिट बढ़ना मतलब मुंह के छाले बार बार आना। इसमें कोई भी तिखा , स्पाइसी और गर्म खाना नहीं खाया जाता। और यह बार बार फिर से वापस आ जाते हैं।  कुछ-कुछ कैसेस में तो हिट इतनी बढ़ जाती है कि गुद्ववार और मूत्र द्वार से भी खून निकल आता है।

          9.fungal infections- दाद खाज खुजली फंगल इंफेक्शन पूरे शरीर पर फैल जाता है। इसमें बहुत ही ज्यादा खुजाता है । फंगल इंफेक्शन  पूरे शरीर पर हो जाता है कि नया दाद fungal infection होने के लिए शरीर पर जगह भी नहीं बचती।  पेशेंट खुजा खुजा कर ही हैरान हो जाता है । यह कोई भी दवाई से, कितनी भी अच्छी दवाई से भी ठीक नहीं होता।

    10.  एचआईवी का ब्रेन पर यानी नर्वस सिस्टम nervous system पर बहुत ही बुरा असर पड़ता है। इसकी वजह से डिप्रेशन यानी तनाव आना; मेमोरी लॉस यानी याददाश्त कमजोर होना और डिमेंशिया यानी सदा खोया खोया सा रहना ; यह बीमारियां भी होती है।

        11.त्वचा इतनी पतली और नाजुक हो जाती है कि , कोई भी चीज अगर उसे लग जाए तो जख्म हो जाता है और उस से खून आने लगता है ।और जरा सी भी ज्यादा ताकत से अगर कोई पकड़े तो वह जगह पूरी लाल हो जाती है।

         12. इंसान हर वक्त बीमार रहता है । बार-बार उसे कोई ना कोई बीमारी जकड़ लेती है;  एक बीमारी ठीक हुई भी नहीं कि उसे दूसरी बीमारी हो जाती है , और उसका शरीर बीमारी का घर बन जाता है।

      हर एक इंसान की प्रकृति अलग-अलग होती है;  इसी हिसाब से एचआईवी एड्स के लक्षण भी  हर एक इंसान में अलग अलग दिखाई देते हैं । ऊपर के कोई भी hiv ke lakshan लक्षण आप में दिखाई दे तो तुरंत आप अपने फैमिली डॉक्टर को दिखा लीजिए और एचआईवी एड्स की जांच कीजिए।

more- treatment of fungal infection 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

Remove your ads block in browser to proceed.

Refresh