Sinusitis in hindi

Sinusitis in hindi

Sinusitis in hindi – आज हम सायनोसायटिस के बारे मे जान लेते है । सायनुसायटिस क्या है , सायनसायटिस के कारण , सायनस क्या है , और कहा होता है , सायनोसायटिस के लक्षण और उसके ट्रीटमेंट अब हम विस्तार से देखेंगे ।

सबसे पहले हम यह देखेंगे की सायनस क्या है , और यह ऑर्गन कहा होता है ।

सायनस हमारे नाक और आख के आजू बाजू होता है । नाक और आख के आजू बाजू जो हड्डियां होती है । वह खोकली ( Hollow) होती है । उसमे हवा भरी हुई होती है ।

सायनस का काम Mucous secreation का होता है । मुकस यानी सर्दी । Read more – how to look younger

Mucous से नाक हमेशा गिला रहता है । यह बॅक्टेरिया को अंदर जाने नही देता , और धूल मिठी dust नाक मे ही रोक देता है । तो सायनस बहुत महत्वपूर्ण काम करता है ।

सायनसायटिस का कारण क्या है । sinusitis symptoms in hindi ।

बॅक्टेरियल और वायरल इन्फेक्शन इस का सबसे बडा कारण है । बार बार सर्दी खासी होना , इससे सायनस Mucous से भर जाते है ।

Mucous यांनी सर्दी । इससे साइनस की Opening block हो जाती है । और उसमे बॅक्टेरिअल और व्हायरल इन्फेक्शन फेल जाता है ।

अगर आप स्मोकिंग करते है । अगर नाक मे कोई प्रॉब्लेम है । तो सायनसायटिस होता है । याने की Hypertrophic Turbinates और Nasal polyp इस में नाक का मास बड जाता है ।

DNS ( Deviated Nasal Septum) इसमे नाक के बीच की हड्डी टेढ़ी हो जाती है । इस से बार बार सर्दी जुकाम आता है ।और अंत मे sinusitis हो जाता है ।

sinusitis कम से कम एक से देड महिना तो रहता ही रहता है । अगर ट्रीटमेंट ले तो यह जल्दी ठीक हो जाता है।

साइनोसाइटिस के लक्षण । Symptoms of Sinusitis in hindi ।

बार बार सर्दी , जुकाम आना , नाक से पानी आना, बुखार , खासी , सिरदर्द , गले मे खीच खीच जो लक्षण आम सर्दी जुकाम मे दिखते है । यह लक्षण sinusitis मैं भी होते है ।

पर सायनुसायटिस के कुछ खास लक्षण होते है । इस मे चेहरा ज्यादा दुखता है । पुरा चेहरा दुखता है । खासकर नाक और आख का आजू बाजू की हड्डिया ज्यादा दुखती है।

Tenderness – इस एरिया पर दबाने से जादा दुखता है । आगे झुकने पर खासने पर छिंकने पर ज्यादा दुखता है ।

किसी भी चीज का स्मेल नही आता , चेहरे पर थोडी सुजन आ जाती है । नाक बंद हो जाती है । नसाल ब्लॉकेज ।

सायनुसायटिस मे चेहरे का पेन सुबह जादा हो जाता है । जैसे जैसे दिन बीतता है , तो दर्द कम होने लगता है । नाक से पिला और हरा बलगम आता है ।

साइनोसाइटिस के उपचार । Treatment of sinusitis in hindi ।

सायनुसायटिस की सबसे महत्वपूर्ण ट्रीटमेंट हे ,Steam Inhailation यांनी भाप लेना , दिन मे तीन बार तो गरम पाणी की भाप आपको लेना ही लेना है ।

warm compress इसमे warm water bag या फिर कपडा गरम करके इससे सायनस के ऊपर सेक देना है । ऐसा दिन मे तीन बार करना है ।

इसके लिए आपको डॉक्टर को दिखाना पडेगा , वह आपको सात या दस दिन का एंटीबायोटिक का कोर्स देंगे । और सर्दी की गोली और कोई पेन किलर भी देंगे । इसका आपको कोर्स पूरा करना है ।

Nasomist Nasal drops ___ दिन मे दो बार दो ड्रॉप्स दोनो नाक की पंखुडीओ मे डालना है । और इस के आधा घंटे बाद आपको गरम पानी की भाग लेना है ।

औषधिया कुछ दिनो के बाद बंद हो जायेगी , पर stream inhalation आपको पुरा महिना करना है । तभी आपका sinusitis पूरी तरह से ठीक हो जायेगा ।

love cooking ? Aloo samosa recipe in hindi.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

Remove your ads block in browser to proceed.

Refresh