Mud therapy in hindi

Mud therapy in Hindi

Mud therapy in hindi – आयुर्वेद और नॅचरोपथी मे एक चिकित्सा पद्धती कॉमन हे । उसका नाम है मड थेरपी। इसे मिट्ठी चिकित्सा भी कहा जाता है।

मडथेरपी एक पुरानी चिकित्सा पद्धती हे । कही दशको से इसे इस्तेमाल किया जा रहा है । मडथेरपी आखिर है क्या ? यह कैसे काम करती है? मडथेरपी से कौन सी बीमारी या ठीक होती है यह सब हम जान लेते है ।

mud therapy in Hindi ।

पृथ्वी , जल , वायू , अग्नी और आकाश यह सब पंच महाभूत है। यह सब पाच तत्त्व से हमारा शरीर बन जाता है।

indication of ceasarian delivery in hindi.

मिट्ठी चिकित्सा हमारे शरीर की जो पृथ्वी तत्व होता है उसकी कमी को पूरा कर देती है । जो पृथ्वीतत्व की कमी से बिमारीया होती है वह मडथेरपी से ठीक हो जाती है ।

मडथेरपी काम कैसे करती हैै ?

मिट्टी जो है वह Alkaline होती है । यह शरीर में थंडक पैदा करने का काम करते है । इसमे बहुत सारे मिनरल्स और पोषण तत्व होते हे ।

जैसे की Iron , zinc , Mg magnesium , ca ++ calcium यह मिट्ठी शरीर मे से टॉक्सिन्स बाहर निकालती है और शरीर शुद्धीकरण का काम करती है ।

मड थेरपी कौन कौन से रोग मे उपयोगी है ?

उसका सबसे ज्यादा उपयोग स्किन प्रॉब्लेम मे होता है। जैसे एलर्जी, दाद , खाज , खुजली सोरियासिस , एक्झिमा ।

इसके बाद पेट की समस्या भी इससे कम होती है । ऍसिडिटी , अपचन , पेट फुलना , खट्टे ढकार आना , पेट दर्द मिट्ठी चिकित्सा से कम होती है ।

इसे B. P. कंट्रोल मे रहता है । पुराने से पुराना सिर दर्द, स्ट्रेस, टेन्शन इससे कम होता है। चेहरे के किल मुहासे इससे कम हो जाते है । बुखार कम करने के लिए भी मड थेरपी का इस्तेमाल किया जाता है ।

मड थेरपी करने के लिए मिट्ठी कैसी होनी चाहिये ?

हर जगह पर अलग अलग प्रकार की मिट्टी मिलती है और सभी प्रकार की मिट्टी मडथेरपी के लिये इस्तेमाल की जाती है ।लेकिन काली चिकणी मिट्टी ही सबसे बेस्ट है ।

जो मिठी आप ले वह साफ सुथरी और कंकड विरहित होनी चाहिये । उसमे केमिकल्स और गंदगी बिलकुल ही नही होनी चाहिये।

इसलिये जमीन के एक दो फिट नीचे की ही मिट्ठी ले। सतह की मिट्टी न ले और उसे अच्छी तरह से छान ले ।

मिट्ठी को पानी मे दस से 15 मिनिट तक भिगो के रखे। किजड ज्यादा गाडा या फिर पतला नही होना चाहिये ।

types of mud therapy in Hindi

मडथेरपी के दो प्रकार है 1) Mud pack 2) Mud bath । मड पॅक मे सिर्फ खास जगह पर ही मिट्टी लगाई जाती है । जैसे की चेहरा , पेट, सीर , पीठ मिठी से स्नान किया जाता है ।

मड बाथ में पूरी पूरे शरीर पर ही कीचड़ लगाया जाता है । पूरा शरीर मोड़ से ढक दिया जाता है। Love cooking – sindhi kadhi recipe in Hindi.

मड बाद एक बार 30 मिनिट तक करना चाहिए । इसके बाद गुन गुने पानी से पूरी मिट्ठी साफ कर ले। ऐसा आपको हप्ते मे एक बार तीन चार हप्ते लगातार करना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

Remove your ads block in browser to proceed.

Refresh